Shiddat lyrics in Hindi sung by Kumar Sanu and Rani Shakya. This song is written by Nishila Shakya and the music is composed by Nil Shakya.

Shiddat Song Details

📌 Song Title Shiddat
🎤 Singer Kumar Sanu, Rani Shakya
✍️ Lyrics Nishila Shakya
🎼 Music Nil Shakya
🏷️ Music Label Rani Shakya

Shiddat Lyrics in Hindi – Nishila Shakya

तुझको बनाकर अपना खुदा
जहाँ को मैं भुला दूँ

हर राह मेरी तुझ पे रुके
दिल से सजदा यहीं मैं करूँ

तुझ में ही मिट जाना है मुझे
तुझ जन्नत बना लूँ

शिद्दत से माँगी दुआ हो तुम
काफ़िर इस दिल की पनाह बना लूँ

जाए ना वो आदत कभी मेरी
तुझको मैं वो जीत बना लूँ

तुझ में ही मिट जाना है मुझे
तुझ जन्नत बना लूँ

तेरे इश्क में है अब मेरी रिहाई
तुझ में ही है अब मेरी फ़िदाई

तेरे इश्क में है अब मेरी रिहाई
तुझ में ही है अब मेरी फ़िदाई

टूट न जाए धागा कभी
तुझ रेशम बना लूं

तुझ में ही मिट जाना है मुझे
तुझ जन्नत बना लूं

अधूरी थी लिखी किताबें वो
मिल गई उस पर इश्क की वफ़ाई

अधूरी थी लिखी किताबें वो
मिल गई उस पर इश्क की वफ़ाई

अपने वश में हो अगर
वक़्त को भी मैं कैद कर लूं

तुझ में ही मिट जाना है मुझे
तुझ जन्नत बना लूं

तुझको बनाकर अपना खुदा
जहाँ को मैं भुला दूँ

हर राह मेरी तुझ पे रुके
दिल से सजदा यहीं मैं करूँ

तुझ में ही मिट जाना है मुझे
तुझ जन्नत बना लूं

शिद्दत से माँगी दुआ हो तुम
काफ़िर इस दिल की पनाह बना लूं

जाए ना वो आदत कभी मेरी
तुझको मैं वो जीत बना लूं

तुझ में ही मिट जाना है मुझे
तुझ जन्नत बना लूं

More Kumar Sanu songs:
उतरा ना दिल में कोई Utra Na Dil Me Koi
गा रहा हूँ इस महफिल में Ga Raha Hu Is Mehfil Mein
मोमिनों की शान है Momino Ki Shaan Hai
दिल भी रोने लगा Dil Bhi Rone Laga
बादलों में छुप रहा है Baadalon Mein Chup Raha Hai Chand Kyun
जिसके आने से रंगों में Jiske Aane Se
वो आँख ही क्या Wo Aankh Hi Kya
तुमसा कोई प्यारा Tumsa Koi Pyaara

Shiddat Lyrics in English

Tujhko banakar apna khuda
Jahan ko main bhula doon

Har raah meri tujh pe ruke
Dil se sajda yahi main karoon

Tujh mein hi mit jaana hai mujhe
A tujh jannat bana loon

Shiddat se maangi dua ho tum
Kafir is dil ki panah bana loon

Jaaye na wo aadat kabhi meri
Tujhko main wo jeet bana loon

Tujh mein hi mit jaana hai mujhe
A tujh jannat bana loon

Tere ishq mein hai ab meri rihaai
Tujh mein hi hai ab meri fidaai

Tere ishq mein hai ab meri rihaai
Tujh mein hi hai ab meri fidaai

Toot na jaaye dhaaga kabhi
A tujh resham bana loon

Tujh mein hi mit jaana hai mujhe
A tujh jannat bana loon

Adhoori thi likhawat kitaabein wo
Mil gayi us par ishq ki wafai

Adhoori thi likhawat kitaabein wo
Mil gayi us par ishq ki wafai

Apne vash mein ho agar
Waqt ko bhi main qaid kar loon

Tujh mein hi mit jaana hai mujhe
A tujh jannat bana loon

Tujhko banakar apna khuda
Jahan ko main bhula doon

Har raah meri tujh pe ruke
Dil se sajda yahi main karoon

Tujh mein hi mit jaana hai mujhe
A tujh jannat bana loon

Shiddat se maangi dua ho tum
Kafir is dil ki panah bana loon

Jaaye na wo aadat kabhi meri
Tujhko main wo jeet bana loon

Tujh mein hi mit jaana hai mujhe
A tujh jannat bana loon